Followers

13 Nov 2011

हमारे प्रथम अतिथि..श्री समीर लाल...


 ब्लॉग की दुनिया का चमकता सितारा
 ***************************
 परिचय:
समीर लाल का जन्म २९ जुलाई, १९६३ को रतलाम म.प्र. में हुआ. विश्व विद्यालय तक की शिक्षा जबलपुर म.प्र से प्राप्त कर आप ४ साल बम्बई में रहे और चार्टड एकाउन्टेन्ट बन कर पुनः जबलपुर में १९९९ तक सी ए की प्रेक्टिस की. सन १९९९ में आप कनाडा आ गये और तब से कनाडा के टोरंटो नामक शहर में निवास करते है. आप कनाडा की सबसे बड़ी बैक के लिए तकनिकी सलाहकार हैं एवं इनके नियमित तकनिकी आलेख प्रकाशित होते रहते हैं. लगातार जमाने के साथ कदम ताल मिला कर चलने वाले समीर लाल कनाडा आने के बाद लगभग ११ शेयर मार्केट के, सी एम ए अमेरीका से, पी एम पी अमेरीका से, माईक्रो सॉफ्ट से एक्सल एक्सपर्ट आदि कोर्स कर चुके हैं और अभी भी कुछ न कुछ नया सीखा जाने की ललक नये कोर्स करवाती रहती है. पेशे के अतिरिक्त साहित्य के पठन और लेखन की ओर रुझान है. सन २००५ से नियमित लिख रहे हैं. आप कविता, गज़ल, व्यंग्य, कहानी, लघु कथा आदि अनेकों विधाओं में दखल रखते हैं एवं कवि सम्मेलनों के मंच का एक जाना पहचाना नाम हैं. भारत के अलावा कनाडा में टोरंटो, मांट्रियल, ऑटवा और अमेरीका में बफेलो, वाशिंग्टन, डेलस और आस्टीन शहरों में मंच से कई बार अपनी प्रस्तुति दे चुके हैं और श्रोताओं द्वारा बहुत सराहे गये.

तकनिकी महारत एवं अपनी लोकप्रियता के चलते आप गुगल बज़्ज़, फेस बुक, ट्विटर एवं ऑर्कुट जैसे आधुनिक मंचो पर भी अपनी धाक जमाये हुए हैं.

आप कनाडा से प्रकाशित लोकप्रिय त्रैमासिक पत्रिका ’हिन्दी चेतना’ के नियमित व्यंग्यकार हैं एवं दिल्ली से व्यंग्य यात्रा, भोपाल से गर्भनाल, यू ए ई से  अनुभूति, अभिव्यक्ति, कनाडा से साहित्य कुँज, जोधपुर से हिन्दी नेस्ट, आस्ट्रेलिया से हिन्दी गौरव एवं कनाडा एवं भारत के विभिन्न समाचार पत्रों एवं पत्रिकाओं में लगातार प्रकाशित होते रहे हैं.

आपका ब्लॉग “उड़नतश्तरी” http://udantashtari.blogspot.com/ हिन्दी ब्लॉगजगत का विश्व में सर्वाधिक लोकप्रिय नाम है एवं आपके प्रशांसकों की संख्या का अनुमान मात्र उनके ब्लॉग पर आई टिप्पणियों को देखकर लगाया जा सकता है.

आपका लोकप्रिय काव्य संग्रह ‘बिखरे मोती’‘ वर्ष २००९ में शिवना प्रकाशन, सिहोर के द्वारा प्रकाशित किया गया एवं शिवना प्रकाशन द्वारा ही वर्ष २०११ में एक उपन्यासिका ’देख लूँ तो चलूँ’ प्रकाशित की गई. कथा संग्रह ‘द साईड मिरर’ (हिन्दी कथाओं का संग्रह) प्रकाशन में है और शीघ्र ही प्रकाशित होने जा रहा है.

प्रकाशित पुस्तकें:

बिखरे मोती -सन २००९ (काव्य संग्रह)

देख लूँ तो चलूँ- सन २०११ (उपन्यासिका)

आपकी कविता ’मेरी माँ लुटेरी थी’ http://udantashtari.blogspot.com/2009/04/blog-post_08.html और व्यंग्य ’अगले जन्म मोहे बेटवा न कीजो’ http://udantashtari.blogspot.com/2008/08/blog-post_08.html लोकप्रियता के चरम पर रहीं और विभिन्न माध्यमों से प्रकाशित हुई
.
सम्मान: आपको सन २००६ में तरकश सम्मान, सर्वश्रेष्ट उदीयमान ब्लॉगर, इन्डी ब्लॉगर सम्मान, विश्व का सर्वाधिक लोकप्रिय हिन्दी ब्लॉग, वाशिंगटन हिन्दी समिती द्वारा साहित्य गौरव सम्मान सन २००९, शिवना सारस्वत सम्मान, २००९, संस्कारधानी जबलपुर में सव्यसाची प्रमिला देवी बिल्लोरे स्मृति 2010 ’हिन्दी के श्रेष्ठ ब्लागर’ सम्मान, परिकल्‍पना समूह द्वारा ब्लॉगोत्सव २०१० में उत्तरांचल के मुख्य मंत्री के कर कमलों से और मान. अशोक चक्रधर की अध्यक्षता में विश्व के श्रेष्ठ हिन्दी ब्लॉगर हेतु ’सारस्वत सम्मान’ एवं अनेकों सम्मानों से नवाजा जा चुका है.

समीर लाल का ईमेल पता है: sameer.lal@gmail.com

3 comments:

ब्लॉ.ललित शर्मा said...

नए ब्लॉग एग्रीगेटर का स्वागत है, शुभकामनाएं।

अविनाश वाचस्पति said...

स्‍वागत भी यहीं टिप्‍पणी में करें। क्‍यूं न गले मिलें। और लिंक भी यहीं छोड़ जाएं। जैसा सुरेश भाई का आदेश है, फिर हम क्‍यों शर्माएं
http://avinashvachaspatinetwork.blogspot.com/
http://twitter.com/avachaspati
http://avinash.nukkadh.com
http://www.nukkadh.com/
http://pitaajee.blogspot.com/
http://jhhakajhhaktimes.blogspot.com/
http://bageechee.blogspot.com/
http://www.nukkadh.com/2009/09/blog-post_22.html
http://tetalaa.blogspot.com/
http://avinashvachaspati.jagranjunction.com/
http://avinashvachaspatinetwork.blogspot.com/
http://www.nukkadh.com/
http://avinash.nukkadh.com/
http://readerblogs.navbharattimes.indiatimes.com/avinashvachaspati/

jyoti dehliwal said...

Hallo!
my blog URL is "http://jyotidehliwal.blogspot.com'.

There was an error in this gadget